गर्भावस्था में संभोग किस तरह से किया जाए – Garbhavastha me sambhog kis tarah se kiya jaye

गर्भधारण करने के बाद कई महिलाएं संबंध नहीं बनाना चाहती है। उनका मानना है कि इस समय में संबंध बनाने से बच्‍चे पर असर पड़ेगा। कई पति भी इस धारणा को सही मानते हैं। जब डॉक्‍टर संबंध बनाने से मना कर देते हैं तो यह उनके लिए और भी ज्यादा चिंता का विषय बन जाता है और वे इसे लेकर एक दुसरे से काफी ज्यादा दुरी बना लेते हैं।

यदि पति – पति दोनों ही संबंध ना बनाने के लिए सहमत है तो कोई दिक्कत आती ही नहीं है लेकिन कई पुरुष ऐसे भी होते है जो इस समय भी सम्बन्ध बनाना चाहते है और यदि ऐसे में पत्नी इंकार करें तो यह उनके बीच तकरार का कारण बन सकता है। इसलिए आज हम आपको ऐसी पोजीशन बता रहें है जिनसे आप गर्भावस्था के दौरान भी संबंध कायम रख सकते है और इनसे महिला को भी कोई तकलीफ नहीं होती है।
इस बारे में डॉक्टर का मानना है कि जहां तक हो सके गर्भ ठहरने के तीन माह तक संबंध नहीं बनाने चाहिए। गर्भ का पता चलते ही सबसे पहले अपने पार्टनर का चेकअप करवाना चाहिए। यदि बच्चा ठीक-ठाक है और महिला को कोई परेशानी नहीं है तो संभोग किया जा सकता है। 
ध्यान रहें कि इस अवधि में यदि आप संबंध बनाते हैं तो आपकी पोजिशन ऐसी होनी चाहिए जिससे स्त्री के पेट पर दबाव न पड़े और तेज झटके ना लगाएँ। यदि महिला को किसी भी प्रकार की शारीरिक परेशानी होती है तो तुरंत चिकित्सक को दिखाएं और इस अवधि में भी संबंध बनाने से परहेज करें। 
गर्भावस्था के दौरान संबंध बनाने की बेहतर पोजीशन –
  1. पुरुष और महिला एक दूसरे के सामने लेट जाएं। महिला अपना बायां पैर पुरूष के शरीर पर रख दे। इस अवस्‍था में संभोग करने से गर्भ को झटके नहीं लगते। हालांकि सातवें महीने से ऐसा करना थोड़ा कठिन होता है।
  2. महिला पुरुष के ऊपर बैठ जाए। महिला का मुख या तो पुरूष के मुख की ओर हो या पैरों की ओर। इस पोजीशन पर संबंध बनाने से गर्भवती महिला के शरीर पर अतिरिक्त भार नहीं पड़ता। ऐसी अवस्‍था में किस करते वक्‍त सावधानी बरतनी चाहिए, क्‍योंकि किस करते समय महिला का पेट दब सकता है।
  3. महिला पीठ के बल टखने मोड़कर लेट जाए। अपनी टांगें पुरूष के कंधे पर रख दे। इस पोजिशन में भी पेट पर दबाव नहीं पड़ता।
  4. पुरुष किसी आरामदायक कुर्सी, बैड, आर्मचेयर आदि पर बैठे। उसके ऊपर महिला बैठ जाए। ऐसा करके भी सेफ संबंध बनाए जा सकते है।
  5. महिला अपनी तरफ सिकुड़कर लेट जाए। पुरूष पीछे लेटकर संभोग की क्रिया करे। इससे भी प्रेगनेंसी पर असर नहीं पड़ता। खास बात यह है कि इस पोजीशन में 8वें व 9वें महीने तक संभोग किया जा सकता है।

loading...